प्रयागराज :-सराय इनायत थाने का मुंशी कर रहा वसूली।

शिकायत कई बार हो चुका है घूस लेने का वीडियो वायरल
विभागीय अधिकारी जांच में लीपापोती करके बचाने मे लगे है।
सरायइनायत थाने में तैनात के. एन. राय मुंशी जो आने वाले फरियादियों से अवैध वसूली करता है जिसके खिलाफ चक मुजम्मिल की महिला ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रयागराज को शिकायती प्रार्थना पत्र देकर न्याय की गुहार लगायी है ।

थाने में तैनात उक्त मुंशी का कई बार कार्यवाही के नाम पर घूस लेते वीडियो वायरल हो चुका है। इतना ही नहीं थाने में शान्ति भंग में आये आरोपी से मालिस कराने का भी वीडियो वायरल हो चुका है,

इसके बाद भी उक्त मुंशी के खिलाफ महकमे के आला अधिकारी कार्यवाही नहीं कर रहे हैं।
सरायइनायत थाने में तैनात के.एन. राय मुंशी इन दिनों थाना क्षेत्र में ही नहीं पुलिस महकमे में चर्चित है। थाने में शिकायत लेकर आने वाले फरियादियों से तत्काल कार्यवाही के नाम पर पांच हजार दस हजार की मांग करता है। पैसा लेने के बाद विपक्षियों से भी साठगांठ कर मोटी कमाई करने में मशगूल है। उक्त मुंशी की इस करतूत का वीडियो भी कई बार वायरल हो चुका है उक्त मुंशी का एक ऐसा वीडियो वायरल हुआ जिसमें वह एक आरोपी से पैर दबवा रहा था। शिकायत के बाद विभागीय उच्चाधिकारियों ने लीपापोती कर इसे बचाने का काम किया। इसी तरह थाने पर तैनात महिला कांस्टेबल ने भी उक्त दीवान पर गंभीर आरोप लगाए थे। जिस पर भी कोई कार्रवाई नहीं की गई। थाना क्षेत्र के मुंशी का पूरा उर्फ चक मुज्जम्मिल की नीतू पुत्री भुवर ने के .एन. राय मुंशी पर पांच हजार रुपये लेने के आरोप की शिकायत वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रयागराज से की। इस तरह की शिकायत विभागीय अधिकारियों से कई बार की गयी किन्तु जांच अधिकारी लीपापोती कर उसे बचाने का काम करते हैं। जिससे हौसला बुलंद मुंशी की आदत बन चुकी है। उक्त मुंशी की पहुँच भी विभागीय अधिकारियों तक है। जैसा वह आये दिन लोगों से कहता रहता है कि शिकायत करके हमारा कोई कुछ क्या उखाड़ लेगा। शिकायत का नतीजा भी फिर वही निकला, ढाक के तीन पात, महिलाओं को उच्च अधिकारी शिकायत के बाद सिर्फ शान्ति भंग में संतोष करना पड़ा। जाहिर है मुंशी से लिया गया पैसा ऊपर अधिकारियों तक पहुंचता है। अभी हाल ही में महाराष्ट्र के एक वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने आरोप लगाया था कि राज्य के गृह मंत्री उन पर पैसे वसूली करने के लिए दबाव डालते हैं। सूत्रों के अनुसार पूर्व में भी उत्तर प्रदेश के कई मुख्यमंत्री पुलिस पर दबाव डालकर महीने का पैसा लेते हैं। दबे स्वर से कई पुलिस अधीक्षक ने स्वीकारा है की मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव ने अपने कार्यकाल में पुलिस से पैसा वसूल करने के लिए दबाव डालते हैं। मीडिया के रिकॉर्ड में अभी तक महाराज जी यानी कि योगी आदित्यनाथ को लेकर ऐसी कोई भी पल भर भी खबर मीडिया के पास नहीं आई है। पर जिस तरह यह मुंशी मनमानी करता है ऐसा प्रतीत होता है कि कहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का हाथ इस पर तो नहीं। मीडिया से यह गुजारिश है मुख्यमंत्री को की केएन राय मुंशी को सस्पेंड कर कर निष्पक्ष जांच करवाएं और ऐसे दाग से बचें जिससे कि उनके प्रदेश के लोग उनको बदनाम ना करें।

अजय विश्वकर्मा
पत्रकार