वंदेभारत मिशन- दूसरे चरण में दूरदराज क्षेत्रों से होगी भारतीयों की वापसी : विदेश मंत्रालय

नई दिल्ली, 21 मई (हि.स.)। ‘वंदे भारत मिशन’ का 16 मई से दूसरा चरण शुरु हो चुका है जो 13 जून तक चलेगा। इसमें 162 उड़ानों के माध्यम से 47 देशों से फंसे भारतीय नागरिकों को वापस लाया जाएगा। इस चरण में इस्तांबुल, हो ची मिन्ह शहर, लागोस आदि स्थानों सहित अमेरिका और यूरोप की उड़ानें शामिल हैं। वहीं फ्रैंकफर्ट को एक हब के रूप में विकसित करने पर भी विचार किया जा रहा है।
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने बताया कि सरकार अर्जेंटीना, दक्षिण अफ्रीका, पेरू, मंगोलिया आदि जैसे दूर-दराज के क्षेत्रों से भी अपने नागरिकों को वापस ला रही हैं। ब्यूनस आयर्स की एक उड़ान कुल 62 भारतीय नागरिकों के साथ आज सुबह 2.35 बजे यहां पहुंची । लद्दाख के लगभग 300 तीर्थयात्री 17 मई को ईरान से महान एयर की उड़ान के माध्यम से पहुंचे। जिबूती और हांगकांग से अन्य उड़ानें उन स्थानों पर फंसे नागरिकों को ले आई है। उन्होंने बताया कि वंदे भारत मिशन के आज 15 वें दिन दोपहर तक 23,475 भारतीय स्वदेश लौटे हैं। इनमें 4,883 कामगार, 4,196 छात्र और 3,087 पेशेवर अन्य शामिल हैं। 98 देशों से लौटने के लिए 2,59,001 लोग पंजीकृत हैं। वापसी करने के लिए पंजीकृत होने वालों में श्रमिक 28 प्रतिशत, छात्र 25 प्रतिशत, पेशेवर 14.5 प्रतिशत और अल्पकालिक वीज़ा धारक 7.6 प्रतिशत हैं। अन्य लोगों में मछुआरे, निर्वासित व्यक्ति आदि भी हैं जिन्हें माफी दी गई है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *