जीवन में सफल होने के लिए विकारों का करना होगा त्याग : गुलाब देवी

Share:

डाॅ अजय ओझा।

युवा पीढ़ी को संस्कारयुक्त शिक्षा देने की जरूरत : गुलाब देवी

सफलता के लिए टीम वर्क और प्रेरणा बहुत जरूरी : कर्नल विजयंत कुमार

कोरोना की चौथी लहर संभावित, सतर्क रहें : प्रो. ज्ञान प्रकाश सिंह

लखनऊ, गुरुवार, 28 अप्रैल, 2022 । जीवन में सफल होना है और अपने लक्ष्य को प्राप्त करना है तो अपने अंदर के विकारों का त्याग करना होगा। इसके साथ ही शरीर को स्वस्थ रखने के लिए दिनचर्या और खान-पान पर विशेष ध्यान देना होगा। इन्हीं बातों को ध्यान में रखकर हम किसी भी मुकाम को हासिल कर सकते हैं। उक्त उद्गार मुख्य वक्ता प्रदेश की माध्यमिक शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) गुलाब देवी ने आजादी के अमृत महोत्सव पर आयोजित राष्ट्रहित सर्वोपरि कार्यक्रम के 20वें अंक में व्यक्त किए। यह कार्यक्रम सरस्वती कुंज, निराला नगर के प्रो. राजेन्द्र सिंह (रज्जू भैया) उच्च तकनीकी (डिजिटल) सूचना संवाद केन्द्र में विद्या भारती, एकल अभियान, इतिहास संकलन समिति अवध, पूर्व सैनिक सेवा परिषद एवं विश्व संवाद केन्द्र अवध के संयुक्त अभियान में चल रहा है।
मुख्य अतिथि वीर चक्र से सम्मानित कर्नल विजयंत कुमार ने कहा कि सेना में जाकर देश की सेवा करना एक सौभाग्य है, लेकिन जो लोग सेना में नहीं जा सकते हैं वह जिस भी क्षेत्र में हैं, वहीं रहकर देशहित व देश के विकास के लिए कार्य करें, यही सच्ची देश सेवा होगी। उन्होंने कहा कि किसी भी कार्य को करने के लिए टीम वर्क एवं प्रेरणा की आवश्यकता होती है। सेना में अनुशासन व टीम वर्क बहुत मायने रखता है, तभी हम अपने मिशन में कामयाब होते हैं। उन्होंने अपने अनुभव को साझा करते हुए बच्चों के सवालों के जवाब भी दिए।
मुख्य वक्ता प्रदेश माध्यमिक शिक्षा राज्यमंत्री गुलाब देवी ने कहा कि हमारे भैया-बहन अपने जीवन के प्रारम्भिक चरण में हैं उन्हें कुछ नियमों और अनुशासन का कठोरता से पालन करने की जरूरत है, जो उनके जीवन में उपयोगी सिद्ध होंगे। उन्होंने कहा कि हम अपने देश की सेवा करने में तब सक्षम होंगे,जब हम शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ होंगे। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में हम अपनी प्रकृति के खिलाफ ही लड़ रहे है, जो हमारे लिए ही घातक है, क्योंकि व्यक्ति ने जिस प्रकृति में जन्म लिया है अगर वह उसके खिलाफ रहेगा तो उसका अस्तित्व भी समाप्त होना निश्चित है। उन्होंने कहा कि भैया-बहनों के अंदर संस्कार का अभाव होता जा रहा है। ऐसे में विद्या भारती के स्कूलों की तरह अन्य विद्यालयों में भी भैया-बहनों को संस्कारयुक्त शिक्षा देने की आवश्यकता है। साथ ही उन्होंने बच्चों को अपने माता-पिता और वरिष्ठजनों का सम्मान करने की बात कही।
विशिष्ट अतिथि केजीएमयू के निश्चेतना विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. ज्ञान प्रकाश सिंह ने कहा कि हम सब एक स्वतंत्र देश में पैदा हुए हैं और देश की स्वतंत्रता के लिए हमारे पूर्वजों ने बलिदान दिया। जिनके बलिदान को याद करने व युवा पीढ़ी तक उनकी वीरगाथा को पहुंचाने के लिये आज़ादी के अमृत महोत्सव पर राष्ट्रहित सर्वोपरि जैसे कार्यक्रमों का आयोजन सराहनीय है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 वर्तमान समय का सबसे गंभीर विषय है, अब तक हम कोरोना की तीन लहरों को देख चुके हैं और चौथी लहर आने की आशंका जतायी जा रही है। ऐसे में सावधानी बरतने की आवश्यकता है। उन्होंने सभी से कोरोना से बचने के लिए वैक्सीन लगवाने की अपील की।
कार्यक्रम अध्यक्ष भारतीय शिक्षा परिषद् के सचिव व प्रशिक्षण प्रमुख श्री दिनेश जी ने कहा कि विद्या भारती अपने स्कूलों में संस्कारयुक्त शिक्षा देने के साथ-साथ उनके अंदर देश प्रेम की भावना को जगा रही है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी में लोगों में जागरूकता लाने व बच्चों को बचाने के लिए विद्या भारती ने ‘बच्चे हैं अनमोल’ कार्यक्रम को चलाया था। इसके साथ वर्चुवल माध्यम से शिक्षा देने का कार्य किया। उन्होंने कहा कि शहीदों, सेना के नायकों व उनके परिवारों को सम्मान देने के लिए आजादी के अमृत महोत्सव पर राष्ट्रहित सर्वोपरि कार्यक्रम चलाया जा रहा है।
विद्या भारती पूर्वी उत्तर प्रदेश के बालिका शिक्षा प्रमुख मा. उमाशंकर मिश्र जी ने आए हुए सभी अतिथियों का परिचय कराया। पूर्व सैनिक सेवा परिषद् के कर्नल श्री आर. पी. सिंह ने कार्यक्रम की प्रस्ताविकी रखी। कार्यक्रम का संचालन विद्या भारती पूर्वी उत्तर प्रदेश के प्रचार प्रमुख श्री सौरभ मिश्रा जी ने किया।
इस अवसर पर डा. शकुन्तला मिश्रा राष्ट्रीय पुर्नवास विश्वविद्यालय के प्रो. अवनीश चन्द्र अवस्थी, सूबेदार मेजर हरीराम यादव, एकल अभियान से श्री प्रमोद अग्निहोत्री, कर्नल विजयंत की पत्नी श्रीमती रानू सिंह, इतिहास संकलन समिति अवध प्रांत के सदस्य डा. गिरिजेश त्रिपाठी जी, विद्या भारती पूर्वी उत्तर प्रदेश के सह प्रचार प्रमुख श्री भास्कर दूबे जी, अभय सिंह, मुकेश वर्मा, प्रधानाचार्य श्री राम तीरथ वर्मा जी, अनुज शर्मा, सरस्वती विद्या मंदिर सीनियर सेकेंन्ड्री स्कूल सेक्टर क्यू अलीगंज के छात्र-छात्राएं सहित कई लोग मौजूद रहे।

फोटो परिचय-

डीएससी 01: कार्यक्रम को सम्बोधित करती हुईं मुख्य वक्ता प्रदेश की माध्यमिक शिक्षा राज्यमंत्री गुलाब देवी जी और मंच पर दाहिने से विशिष्ट अतिथि केजीएमयू के निश्चेतना विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. ज्ञान प्रकाश सिंह जी, मुख्य अतिथि वीर चक्र से सम्मानित कर्नल विजयंत कुमार जी और कार्यक्रम अध्यक्ष भारतीय शिक्षा परिषद के सचिव श्री दिनेश जी ।

डीएससी 02: कार्यक्रम में सरस्वती विद्या मंदिर सीनियर सेकेंन्ड्री स्कूल सेक्टर क्यू अलीगंज के छात्र-छात्राएं सहित अन्य पदाधिकारीगण।


Share: