भाजपा फिर 200 पार का लक्ष्य

Share:

देवदत्त दुबे।

कृष्ण जन्माष्टमी पर भाजपा के पित्र पुरुष कहे जाने वाले स्वर्गीय कुशाभाऊ ठाकरे की जयंती पर एक बार फिर भाजपा ने प्रदेश में 200 से ज्यादा विधानसभा सीटें जीतने का लक्ष्य तय किया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि लक्षय हमेशा बड़ा तय करना चाहिए ।

दरअसल हाल ही में संपन्न हुए त्रिस्तरीय पंचायती राज और नगरी निकाय के चुनाव को लेकर एक तरफ जहां समीक्षा का दौर चल रहा है, दूसरी ओर पार्टी के सबसे बड़े रणनीतिकार देश के गृहमंत्री अमित शाह 22 अगस्त को राजधानी भोपाल आ रहे हैं। इस दौरान वे शासकीय कार्यक्रमों के अलावा पार्टी पदाधिकारियों से चर्चा भी कर सकते हैं। जिसके लिए पार्टी में तैयारियां चल रही है। पिछली बार 2018 के विधानसभा के चुनाव के पहले पार्टी ने प्रदेश में 200 से ज्यादा सीटें जीतने का लक्ष्य रखा था लेकिन तब पार्टी ना केवल अपने लक्ष्य से पीछे रह गई वरन वह सरकार से भी बाहर हो गई।

बाद में ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनके समर्थकों के भाजपा में आ जाने से सरकार तो बन गई लेकिन तब से ही पार्टी 2023 में प्रदेश में सरकार बनाने के लिए प्रयासरत है। पार्टी 51% वोट शेयर करने के लिए लगातार जतन कर रही है। बूथ विस्तारक कार्यक्रम चलाए गया और अब बूथ सशक्तिकरण अभियान शुरू किया जा रहा है। प्रदेश में पार्टी ने सभी बूथ की जानकारी एकत्रित करके ए बी और सी श्रेणी में बाटा है। सी श्रेणी के बूथ है जहां पार्टी कभी चुनाव नहीं जीत पाई है और इन्हीं बूथ पर बूथ सशक्तिकरण अभियान चलाया जाएगा। ऐसे करीब 3000 बूथों पर सांसद जाएंगे एक सांसद सौ बूथो पर या तो स्वयं जाएगा या अपने प्रतिनिधि को भेजेगा। सी श्रेणी के बूथ को ए श्रेणी में लाने का पार्टी का लक्ष्य है।
करीब 6000 बूथ पर विधायक या पार्टी पदाधिकारी जाएंगे एक विधायक को 25 बूथों पर सशक्तिकरण अभियान चलाना है।

बहरहाल पार्टी के प्रदेश कार्यालय में स्वर्गीय कुशाभाऊ ठाकरे की जयंती पर श्रद्धांजलि देते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि ठाकरे जी कृष्ण की तरह निष्काम योगी थे। 1984 में पार्टी को मिली पराजय के तत्काल बाद स्वर्गीय ठाकरे जी पूरे उत्साह के साथ अपने काम में जुट गए और पार्टी को जो मजबूती दी वह 1989 के चुनाव में स्पष्ट रूप से दिखाई दी। उन्होंने कार्यकर्ताओं से ठाकरे जी से प्रेरणा लेकर पार्टी का कार्य करने को कहा और पार्टी इस बार 200 बार के लक्ष्य को लेकर चुनाव मैदान में जाएगी। जिसे कार्यकर्ताओं को पूरा करना है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने कहा की हम भाग्यशाली हैं कि हमें मध्य प्रदेश के उस संगठन में काम करने का अवसर मिला है जिसे ठाकरे ने अपने परिश्रम से सीचा और आदर्श बनाया है। पार्टी के प्रदेश संगठन महामंत्री हितानंद शर्मा ने कहा संघ प्रचारक के रूप में ठाकरे जी की सादगी हमारे लिए हमेशा प्रेरणादायक है।

कुल मिलाकर जन्माष्टमी के दिन ठाकरे की जयंती के बहाने भाजपा के प्रदेश नेतृत्व में कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने और अमित शाह के प्रदेश दौरे के पहले पार्टी के पक्ष में उत्साहजनक वातावरण बनाने कोई कसर नहीं छोड़ी है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जिस तरह से 200 पार का बड़ा लक्ष्य दिया है उससे पार्टी की 2023 की तैयारियों को समझा जा सकता है।

हालांकि जिस तरह से प्रदेश में कांग्रेस पार्टी लगातार चुनौती दे रही है और प्रत्यक्ष प्रणाली से हुए महापौर के चुनाव में भाजपा 16 में से 7 सीटें हार गई है। उसके बाद पार्टी अंदरूनी तौर पर सतर्क और सावधान हो गई है। पार्टी नेताओं को भी चिन्हित किया जा रहा है और अब जनाधार वाले नेताओं को आगे लाया जाएगा जिससे कि 2023 के चुनाव में किसी भी प्रकार की दुविधा ना रहे और यही प्रोजेक्ट अमित शाह  को भी दिखाया जाएगा।

पार्टी के रणनीतिकारों ने पंचायती राज और नगरी निकाय चुनाव के परिणामों को सूक्ष्मता से विश्लेषित किया जा रहा है जिसमें वोट प्रतिशत निकाला जाएगा पार्टी का मानना है कि लगभग 53% वोट पार्टी के पक्ष में गया है।

अमित शाह के दौरे के बाद पार्टी की रणनीति में बदलाव भी आ सकता है क्योंकि शाह पार्टी के सबसे बड़े रणनीतिकार माने जाते हैं।


Share: