बेरोजगारी दिवस के रूप में मनायेंगे मोदी का जन्मदिन-संतोष श्रीवास्तव

आज हमारे देश में जिस तरह से बेरोजगारी अपने पाँव पसार रही है उसका परिणाम पूरे देश के सामने है। प्रतिदिन विद्यार्थी आत्महत्या कर रहा है जो अन्य विद्यार्थियों और प्रतियोगियों में रोष पैदा कर रहा है ऐसी स्थिति में विद्यार्थी प्रतिदिन सोशल मीडिया तथा विभिन्न माध्यमों से अपना विरोध दर्ज कर रहे हैं फिर भी केंद्र सरकार और प्रदेश सरकार के ऊपर कोई प्रभाव नहीं दिख रहा। आये दिन केंद्र व राज्य सरकार रोजगार को पूर्णतः खत्म करने के रास्ते पर चलती दिखाई दे रही है जब से मोदी सरकार ने सत्ता संभाली है सिर्फ विद्यार्थियों का अहित ही हुआ है। ऐसे में घर से दूर रहकर तैयारी करने वाले विद्यार्थी पूरी तरह से टूट चुका है क्योंकि सरकार की नीतियों से सिर्फ व सिर्फ निराशा ही हाथ लगी है। उत्तर प्रदेश सरकार वर्तमान समय में उत्तर प्रदेश के बड़े बड़े माफ़िया का सफाया करने में जुटी है योगी जी को ये नहीं पता यदि देश प्रदेश में बेरोजगारी का यही आलम रहा तो यही बेरोजगार कल बड़े से बड़े माफ़िया के राह पर चलने को मजबूर होगा। सरकार की इन्ही रोजगार विरोधी नीति से आहत होकर अखिल भारतीय कायस्थ महासभा अध्य्क्ष शिक्षा प्रकोष्ठ उत्तर प्रदेश संतोष श्रीवास्तव बेरोजगार युवाओं के आवाहन पर 17 सिंतबर को देश के प्रधानमंत्री के जन्मदिवस को बेरोजगारी दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया है।