अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के नाम पर फर्जी संस्था होंगी बंद

अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के नाम पर फर्जी संस्था चलाने वालों के खिलाफ राष्ट्रीय नेतृत्व हुआ सख्त

प्रयागराज के साथ-साथ उत्तर प्रदेश व देश में अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के नाम पर बहुत सारे संगठन चल रहे हैं इस पर 1897 में स्थापित अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा जिस के राष्ट्रीय अध्यक्ष कुंवर हरिवंश सिंह और राष्ट्रीय महामंत्री श्री राघवेंद्र सिंह राजू हैं, उन्होंने एक पत्र जारी किया है उस पत्र में अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के नाम पर दलाली बजारी करने वाले लोगों को सावधान किया गया है और उनके विरुद्ध कार्रवाई की चेतावनी दी गई है।पत्र में स्पष्ट रूप से बताया गया है कि यदि कोई व्यक्ति अथवा संस्था अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के बैनर का प्रयोग करता है तो उसके खिलाफ विधिक कार्रवाई की जाएगी।

क्या लिखा है पत्र में

उत्तर प्रदेश के सम्मानित क्षत्रिय बंधुओं अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा जिसका पंजीकरण संख्या 1897-1180-1530/1421-29-71-1040/2012-2013 है।जिसके राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व सांसद कुंवर हरिवंश सिंह जी, राष्ट्रीय प्रमुख महासचिव श्री राघवेन्द्र सिंह राजू जी हैं। पूरे देश में यदि कोई व्यक्ति अथवा संगठन मेरे इस बैनर/नाम /पंजीकरण संख्या का संगठन के जिम्मेदार व महत्वपूर्ण पदाधिकारियों के लिखित अनुमति के बिना किसी भी मंच पर प्रयोग करता है तो उसके खिलाफ अनुशासनात्मक व विधिक कार्रवाई को हम बाध्य होंगे।

राष्ट्रीय अध्यक्ष
कुंवर हरिवंश सिंह
“पूर्व सांसद”

राष्ट्रीय वरिष्ठ महामंत्री
राघवेंद्र सिंह “राजू”

क्यों पड़ी पत्र जारी करने की आवश्यकता

राष्ट्रीय महासचिव
सुखबीर सिंह भदौरिया

राष्ट्रीय नेतृत्व द्वारा जारी किया गया पत्र

पूर्वी उत्तर प्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष प्रीत कुमार सिंह के अनुसार जैसा कि सोशल मीडिया पर प्रयागराज में कुछ पूर्व पदाधिकारियों द्वारा जिस तरह से अनुशासनहीनता व असंवैधानिक कृत्य किया जा रहा है,जो संगठन के दृष्टिकोण से सर्वथा अनुचित है। अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा का कार्यकाल सिर्फ 3 वर्ष का होता है, ऐसा अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा की नियमावली में है उसके बावजूद प्रयागराज के कुछ पूर्व पदाधिकारी अपने कार्यकाल को 5 वर्ष का बता करके जनता के बीच भ्रम पैदा कर रहे हैं इसके अलावा अपने आपको अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा का जिला अध्यक्ष बता रहे हैं।उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई होगी और एफ आई आर दर्ज कराई जाएगी।उन्होंने कहा कि विकेंद्रीकरण कर प्रयागराज को तीन भागों में विभक्त कर दिया गया है गंगा पार प्रयागराज ,यमुना पार प्रयागराज और महानगर प्रयागराज यह तीनों अलग-अलग क्षेत्रों के जिला अध्यक्ष हैं इसके अलावा प्रयागराज में अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा का कोई जिला अध्यक्ष नहीं है। यदि कोई इस तरह का कृत्य करता है तो यह अपराध की श्रेणी में आता है और उसके विरुद्ध कार्यवाही की जाएगी।

सौरभ सिंह सोमवंशी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *